खेलदेश-विदेश

पुलवामाअटैक : देहरादून में अफगानी प्रशंसक ने लगाए पाकिस्तान विरोधी नारे

नई दिल्ली : हाल ही में पुलवामा आतंकी हमले के बाद देश भर में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा दिखाई पड़ रहा है. आम से लेकर खास तक सभी में बहुत ही ज्यादा रोष है. उत्तराखंड ही नहीं, बल्कि पूरे देश के अलग-अलग शहरों में युवा अभी भी तिरंगे और पाकिस्तान विरोधी नारों के साथ सड़कों पर जुलूस निकाल रहे हैं.

बहरहाल, आतंकी हमले का असर एक दिन पहले वीरवार को देहरादून में अफगानिस्तान और आयरलैंड (#AfgvIre, #AfgvsIre) के बीच खेले गए पहले टी20 क्रिकेट इंटरनेशनल मुकाबले में भी दिखाई पड़ा. मैच के दौरान अफगानी प्रशंसकों ने जमकर पाकिस्तान विरोधी नारे लगाए.

“द स्टेट्समैन” में छपी खबर के अनुसार देहरादून में खेले गए मुकाबले में पहले टी20 को देखने के लिए बहुत ही कम दर्शक स्टेडियम पहुंचे. मैच के दौरान करीब 500-600 दर्शक ही स्टेडियम में मौजूद थे. लेकिन ये लगातार अफगानिस्तान हौसलाअफजाई कर रहे थे. लेकिन उस समय भारतीय प्रशसंक तब हैरान रह गए, जब अफगानी प्रशंसकों के समूह ने पाकिस्तान मुर्दाबाद..पाकिस्तान मुर्दाबाद के जोर-जोर से नारे लगाने शुरू कर दिए. पहला मैच राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में खेला गया था.

इस मुकाबले को देखने के लिए करीब 40-50 अफगानी क्रिकेटप्रेमी भी देखने पहुंचे. और इन्होंने पाकिस्तानी विरोधी नारों से स्थानीय दर्शकों को हैरान कर दिया. ध्यान दिला दें कि पुलवामा आतंकी हमले में उत्तराखंड के दो जवान भी शहीद हुए हैं. मेजर चित्रेश बिष्ट आईईडी को डिफ्यूज करने की कोशिश में शहीद हुए, तो मेजर विभूति धौंडियाल सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच ही गोलबारी में शहीद हुए थे.

बहरहाल, पाक विरोधी नारे पर अफगानी प्रशंसक अमर खेल ने कहा कि हम भारत से प्यार करते हैं. यही वजह है कि हम क्रिकेट खेलने के लिए यहां आए हैं. भारत पर हर हमले के पीछे पाकिस्तान है. एक और प्रशंसक हामिद खान ने कहा कि पाकिस्तानी आर्मी आतंकवाद का समर्थन करती है. और उसे सबक सिखाए जाने की जरूरत है.

इस पर एक भारतीय प्रशंसक सुनील कोटियाल ने कहा कि हम अफगानी प्रशंकों की उपस्थिति से थोड़ा हैरान थे क्योंकि इतनी संख्या में अफगानी कम ही मैच देखने आते हैं. ये प्रशंसक हाथों में अपने देश और भारत का झंडा लिए हुए थे. और पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगा रहे थे. इसने हमारा ध्यान भी अपनी ओर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close