देश-विदेशपॉलिटिक्सबड़ी खबर

मप्र का सियासी ड्रामा बिना फुलस्टॉप कॉमा, होटल मैरियट पहुंचे कांग्रेस के 85 विधायक

कमलनाथ करेंगे मुलाकात, शाम को कैबिनेट की बैठक, फ्लोर टेस्ट सोमवार को

भोपाल। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh)  का हाईवोल्टेज सियासी ड्रामा बिना फुलस्टॉप कॉमा जारी है। इसी बीच खबर आई है कि जयपुर से 5वें दिन कांग्रेस ( Congress) के 86 में से 85 विधायक रविवार को भोपाल पहुंचे। एक एमएलए दो दिन पहले ही भोपाल आ गए थे। 85 विधायकों को एयरपोर्ट से होटल मैरियट ले जाया गया। मुख्यमंत्री कमलनाथ इनसे मुलाकात करेंगे। उधर इसी हाईवोल्टेज सियासी ड्रामे के बीच दोपहर में कैबिनेट (Cabinet meeting) और शाम को विधायक दल (Legislature Party meeting) की बैठक होगी। संभावना है कि सोमवार को कांग्रेस विधायक पहले सीएम हाउस जाएंगे। इसके बाद विधानसभा ( Legislative Assembly) पहुंचेंगे। राज्यपाल लालजी टंडन ने कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) को 16 मार्च को फ्लोर टेस्ट कराने के लिए कहा है।

शाम तक सरकार की तस्वीर साफ होने की उम्मीद

दूसरी तरफ, भाजपा (BJP) विधायक नरोत्तम मिश्रा ने रविवार सुबह कहा कि प्रदेश की राजनीति में कुहासे के बादल छंटते जा रहे हैं। कांग्रेस के 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर होने पर मिश्रा ने कहा- विधानसभा अध्यक्ष ने जिस प्रकार विधायकों को नोटिस दिए थे, उसी तरह से कार्रवाई की है। अध्यक्ष आज भी कुछ निर्णय ले सकते हैं। शाम तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। भाजपा ने रविवार को अपने विधायकों को सोमवार को होने वाले फ्लोर टेस्ट में शामिल होने के लिए व्हिप भी जारी कर दिया।

भाजपा विधायक दल की बैठक भी आज

रविवार को ही भाजपा विधायक दल की बैठक भी हो सकती है। शिवराज सिंह चौहान फिलहाल दिल्ली में हैं। हरियाणा के मानेसर में एक रिजॉर्ट में ठहरे भाजपा विधायक भी रविवार शाम तक भोपाल पहुंच सकते हैं। वहीं, बेंगलुरु में मौजूद ज्योतिरादित्य समर्थक 22 विधायकों के बारे में खबर हैं कि ये सोमवार को फ्लोर टेस्ट के कुछ देर पहले विधानसभा पहुंचेंगे।

16 विधायकों के इस्तीफे पर स्पीकर को फैसला लेना बाकी

शनिवार को विधानसभा अध्यक्ष ने सिंधिया समर्थक 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर कर लिए थे। 16 पर फैसला बाकी है। अगर इनके इस्तीफे भी मंजूर होते हैं तो कांग्रेस के पास कुल 99 विधायक रह जाएंगे। विधानसभा में कुल विधायकों की संख्या 206 हो जाएगी। बहुमत के लिए 104 का आंकड़ा जरूरी होगा। और भाजपा के पास कुल 107 विधायक हैं। ऐसे में अब देखना ये होगा कि क्या कांग्रेस अपनी सरकार बचा पाएगी या फिर मध्य प्रदेश में सरकार गिरेगी।

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close